छुट्टियों के दिनों में भी खुलेंगे स्कूल, अब कमजोर बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान

एक टिप्पणी भेजें

मंडला. जो बच्चे किसी कारणवश कमजोर रह गए हैं, उनकी शैक्षणिक गुणवत्ता सुधारने के लिए छुट्टियों के दिनों में भी स्कूल खोले जा रहे हैं, ताकि बच्चे अपडेट रहें, इसके लिए करवा चौथ के दिन भी शिक्षिकाओं ने स्कूल पहुंचने में कोई लापरवाही नहीं बरती। अगर आपका बच्चा भी पढ़ाई में कुछ कमजोर है। तो आप भी उसे समय पर स्कूल भेजें, ताकि उसमें सुधार हो जाए। अगर ऐसा ही प्रदेश के सभी विद्यालय में हो, तो निश्चित ही कमजोर बच्चों की गुणवत्ता में काफी सुधार आएगा।

ट्रायबल क्षेत्र के बच्चे काफी पिछड़ गए
कोरोना काल में ट्रायबल क्षेत्र के बच्चे पढ़ाई में अन्य बच्चों की तुलना में काफी पिछड़ गए हैं। बिना मोबाइल के बच्चे डिजीलेप की ऑनलाइन क्लास आदि से भी वंचित रहे। पिछले दो वर्षों में बच्चे बिना किसी परीक्षा के उत्तीर्ण हो गए। जिससे वे पढ़ाई-लिखाई में और पिछड़ गए। इससे बच्चों को उबारने के लिए ट्रायबल वेलफेयर टीचर्स एसोसिएशन द्वारा अपने शिक्षकों के सहयोग से छुट्टी के दिनों में अतिरिक्त कक्षाएं लगाकर पढ़ाई कराई जा रही है।

नेशनल अचीवमेंट सर्वे की परीक्षा
वहीं 12 नवंबर को बच्चों की शैक्षिक स्तर को जानने के लिए नेशनल अचीवमेंट सर्वे की परीक्षा होना है। भारत सरकार द्वारा आयोजित इस सर्वे में पिछली बार मध्य प्रदेश के छात्रों की स्थिति ठीक नहीं थी, इस बार प्रदेश सरकार द्वारा स्तर को सुधारने के लिए शेष प्रयास किए जा रहे हैं। जिसके अंतर्गत विद्यालयों में बच्चों को परीक्षा पैटर्न से अवगत कराने के लिए प्रति सप्ताह अभ्यास टेस्ट और मॉक टेस्ट लिए जा रहे हैं। शिक्षक अवकाश के दिनों में अतिरिक्त कक्षा लगाकर नेशनल अचीवमेंट सर्वे की व्यापक तैयारी करा रहे हैं। एसोसिएशन के प्रांत अध्यक्ष डीके सिंगौर अपने जिले में रविवार के दिनों में अतिरिक्त कक्षा लगाने वाले शिक्षकों के विद्यालयों की मॉनिटरिंग कर व्हाइट-ग्रीन बोर्ड, पहाड़ा, कॉपी पेन, टीएलएम, मॉडल चार्ट, वर्षा मापी यंत्र, फस्र्ट एड बॉक्स, एटलस आदि भेंटकर शिक्षकों एवं छात्रों को प्रोत्साहित कर रहे हैं।

एसोसिएशन की मॉनिटरिंग
24 अक्टूबर को एसोसिएशन की मॉनिटरिंग टीम में प्रांताध्यक्ष डीके सिंगौर, बिछिया बीआरसीसी माखन सिंह चौहान माध्यमिक शाला बरबसपुर, माध्यमिक शाला सर्रा पिपरिया, माध्यमिक शाला केवलारी पहुंची, माध्यमिक शाला बरबसपुर में शिक्षिका रश्मि मरावी द्वारा एनएएस की तैयारी कराई जा रही थी। यहां छठवीं, सातवीं, आठवीं के सभी बच्चे उपस्थित थे। एक शिक्षकीय विद्यालय होने के बाद भी विद्यालय का रख-रखाव, शालेय अभिलेख का संधारण अच्छा देखा गया। बच्चों और शिक्षकों द्वारा बनाए गए टीएलएम को देखकर मॉनिटरिंग टीम ने बच्चों व शिक्षिका को प्रोत्साहित करते हुए ग्रीन बोर्ड, मॉडल चार्ट, वर्षा मापी यंत्र, आदि भेंट किया। एसोसिएशन की टीम माध्यमिक शाला सर्रा पिपरिया पहुंची, जहां शिक्षक संजीव सोनी एनएएस की तैयारी कराते हुए मिले। टीम द्वारा बच्चों को से कुछ सवाल जवाब भी किए गए। टीम द्वारा यहां विद्यालय को ग्रीन बोर्ड, फस्र्ट एड बॉक्स, मॉडल चार्ट भेंटकर शिक्षक, बच्चों व विद्यालयों को प्रोत्साहित किया गया। इसके बाद मॉनिटरिंग टीम माध्यमिक शाला केवलारी (पिंडरई) पहुंची, जहां शिक्षक नंदकिशोर कटारे द्वारा बच्चों को एनएएस की परीक्षा की तैयारी कराई जा रही थी। यहां भी विद्यालय को व्हाइट-ग्रीन बोर्ड, एटलस, मॉडल चार्ट एवं बच्चों को कापी पेन देकर प्रोत्साहित किया गया।

बच्चों की पहुंच से दूर कर दिया स्कूल-अब कैसे हो पढ़ाई

करवाचौथ को शिक्षिकाओं ने लगाया अतिरिक्त क्लास
छात्र-छात्रों के भविष्य की चिंता करते हुए शिक्षिकाएं भी रविवार को घर का काम छोड़कर अतिरिक्त क्लास लगा रहीं है। करवाचौथ के दिन माधोगढ़ की शिक्षिका अर्चना गुमास्ता, अतिथि शिक्षिका नम्रता सिंगरोरे, बरबसपुर में रश्मि मरावी, मोहगांव में सविता कटारे, सहित दर्जनों शिक्षिकाओं ने व्रत रहने के बाद भी अतिरिक्त क्लास लगाकर एनएएस की तैयारी में लगी रही। इसके अलावा शिक्षक अजय मरावी, सुनील नामदेव, प्रदीप पटेल, पुन्नू लाल तेकाम, मनीष कटकवार, मुकेश सोलंकी, नेतराम कार्तिकेय, कोढूलाल सिंगरोरे, प्रफुल्ल डोंगरे, नंदकिशोर कटारे, संजीव सोनी सहित दर्जनों शिक्षकों ने रविवार को अतिरिक्त कक्षाएं लगाकर कोरोना काल में पिछड़े बच्चों को पढ़ाई कराई।



source https://www.patrika.com/mandla-news/schools-opening-even-on-holidays-7140470/

Related Posts

एक टिप्पणी भेजें

Subscribe Our Newsletter